तहसील सदर हाथरस में नवनिर्मित सखी वन स्टॉप सेंटर का मा0 विधायक सदर श्रीमती अंजुला सिह माहौर, जिलाध्यक्ष गौरव आर्य तथा मुख्य विकास अधिकारी साहित्य प्रकाश मिश्र ने संयुक्त रूप से फीता काटकर उद्घाटन किया।

0
57

हाथरस 06 मई, 2022 (सू0वि0)। तहसील सदर हाथरस में नवनिर्मित सखी वन स्टॉप सेंटर का मा0 विधायक सदर श्रीमती अंजुला सिह माहौर, जिलाध्यक्ष गौरव आर्य तथा मुख्य विकास अधिकारी साहित्य प्रकाश मिश्र ने संयुक्त रूप से फीता काटकर उद्घाटन किया।

 

 

 

 

 

मा0 विधायक सदर ने कहा इस योजना का मुख्य उद्देश्य पीड़ित महिलाओं की तत्परता से मदद करना है। सरकार ने विभिन्न प्रकार से उत्पीड़ित महिलाओं को चिकित्सा, कानूनी सहायता मुहैया कराने हेतु ‘वन स्टाप सेंटर’ खोले गए हैं, जिनका मुख्य उद्देश्य पीड़ित महिलाओं को एक छत के नीचे एकीकृत समर्थन और सहायता प्रदान करना है।

 

 

 

 

सखी वन स्टॉप सेंटर के तहत पीड़ित महिलाओं व लड़कियों को वन स्टॉप सेंटर पर तत्काल मदद मुहैया करवाई जाएगी। पीड़ित महिलाओं के एक फ़ोन कॉल पर तत्काल मदद, पीड़ित महिलाओं के लिए मेडिकल जाँच इलाज की व्यवस्था, महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उनके लिए रोजगार उपलब्ध करवाना, आपात स्थिति में रहने-खाने और ईलाज की सुविधा उपलब्ध, सेंटर में क़ानूनी सलाह के लिए वकील भी उपलब्ध, साथ ही पीड़ित महिला एवं बालिका को मनौवैज्ञानिक परामर्श और काउन्सलिंग की सुविधा प्रदान की जाएगी।

 

 

 

 

 

इस भवन में दो अस्थायी आश्रय, एक मनो समाजिक परामर्श कक्ष, एक कानूनी सहायता एवं परामर्श कक्ष, एक पुलिस सहायता कक्ष, चिकित्सा सहायता कक्ष और एक सभा कक्ष है। इसमें एक ही छत के नीचे किसी भी प्रकार की हिंसा से प्रभावित महिला को संक्षरण एवं सुरक्षा दिये जाने का उद्देश्य है।

 

 

 

 

जिला प्रोबेशन अधिकारी आर0के0 सिंह ने बताया कि वन स्टॉप सेंटर (सखी) अंतर्गत सभी प्रकार की हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एक ही स्थान पर अस्थायी आश्रय, पुलिस-डेस्क, विधि सहायता, चिकित्सा एवं काउन्सलिंग की सुविधा वन स्टॉप सेन्टर/उषा किरण केन्द्रों में उपलब्ध करायी जायेगी।

 

 

 

 

उन्होंने कहा कि इसका प्रमुख उद्देश्य एक ही छत के नीचे हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एकीकृत रूप से सहायता एवं सहयोग प्रदाय करना, पीड़ित महिला एवं बालिका को तत्काल आपातकालीन एवं गैर आपातकालीन सुविधायें उपलब्ध करना, जैसे-चिकित्सा, विधिक, मनौवैज्ञानिक परामर्श आदि सम्मिलित है, को सहायता प्रदान करना है।

 

 

 

 

कोई भी पीड़िता महिला हेल्प लाइन नं0 181, 112 तथा 1090 पर सूचना/सहायता प्राप्त कर सकती है।
कार्यक्रम के दौरान जिला विकास अधिकारी, डी0सी0 मनरेगा तथा समस्त स्टॉफ उपस्थित रहा। ———————————————————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here