मुंगावली* 65 आवेदन 3 सर्वे के बाद भी दो राज्यों के बीच किसानो को नहीं मिला मुआवजा

0
57

*मुंगावली*

65 आवेदन 3 सर्वे के बाद भी दो राज्यों के बीच किसानो को नहीं मिला मुआवजा

आज मुंगावली तहसील मे ऐसा मामला सामने आया की सुनने बालो के होश उड़ जाये पर शाशन प्रशाशन कि मदद आज भी नहीं मिल सकी।।

 

 

 

 

आज हम बात कर रहे है राजघाट बांध से डूब मे आई देवरछी ग्राम की लगभग 80 बीघा जमीन की जो प्रतिवर्ष डूब मे आने से किसानो की फसल को लील जाती है।।

 

 

 

 

देवरछी ग्राम के संग्राम सिंह अहिरवार की माने तो वर्ष 2010 से आज तक प्रति वर्ष मौसमी फसल राजघाट बाँध मे पानी का अधिक भराब होने से हरी लाइन को क्रॉस कर जाता है ओर उनके ग्राम मे बहुत से छोटे छोटे अन्नदाता की फसल तबाह हो जाती है।।

 

 

 

 

संग्राम सिंह की माने बह बह आज तक ६५ आवेदन शाशन प्रशाशन को दे चुके ओर जिनका खर्च ही ३१५१४ आज तक आचुका है १२ आदेश पत्र पारित होने के बाद भी किसान आज भी मुआवजा के लिए ११ साल से अपनी लड़ाई लड़ रहे है परन्तु दुर्भाग्य है की २ राज्यो के बीच का मामला होने पर सुनबाई मे आज तक देर हो रही है।।।

 

 

 

 

 

एक बात देखने लायक है की संग्राम सिंह ने आज तक हिम्मत नहीं हारी ओर अपने ग्राम के किसानो की लड़ाई बो खुद लड़ रहे है उनकी माने तो ये लड़ाई बो जब तक जारी रखेंगे जब तक उनके ओर ग्रामबासियो को न्याय नहीं मिल जाता संग्राम ने बताया की ये सिलसिला अब कब रुकेगा कब तक न्याय मिलेगा हम किसानपुत्र है हम भी अपने न्याय की आस शाशन से लगाए हुए है ओर एक दिन हमारी जीत जरूर होगी।

 

 

 

 

पर अब देखना होगा की शाशन क्या कदम उठाएगा ओर इस पर क्या कार्यबाही करेगा किसानो का दर्द ओर फसल की चिंता उनको परेशान कर रही है ओर उनकी लड़ाई से साफ दिखाई देता है की ११वर्ष के संघर्ष के बाद उन्होंने क्या खोया है ओर क्या पाया है,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here