सिवनी***प्रशासन व जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण आज दिनांक 11 को फिर विस्थापित जानवी नगर की महिलाएं भूख हड़ताल पर बैठने के लिए मजबूर हुईं,

0
92

जिला-सिवनी ब्यूरो चीफ
अनिल दिनेशवर
@ प्रशासन व जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण आज दिनांक 11 को फिर विस्थापित जानवी नगर की महिलाएं भूख हड़ताल पर बैठने के लिए मजबूर हुईं,

 

 

 

 

वोट बैंक के राजनीतिक आश्वासन के साथ प्रशासनिक नुमाइंदों ने जिला सिवनी नगर के झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले नागरिकों को विस्थापित कर नगर से 5 किलोमीटर बाहर चूनाभट्टी बरघाट बाई पास में जमीन आबंटित कर तो दी है

 

 

 

 

 लेकिन क्या इस बसिकत कि गई नई जानवी कालोनी में लोगों के जीवनोपार्जन के लिए जो अतिआवश्यक पानी,बिजली,सड़क है उसकी सुविधा की गई है आज भरी दोपहरी में हमारी मीडिया टीम जब जमीनी हकीकत जानने जानवी नगर पहुँची तो इस गर्मी में जब उनके घरों में 1 घण्टे रुककर उनकी परेशानी समझी तो पूरे शरीर के कपड़े पसीने से गीले हो गए,

 

 

 

 

जब हमारी टीम ने वहाँ की तकलीफ खुद महसूस की ओर देखा कि हम बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं तो ये गरीब कैसे बर्दाश्त कर रहे होंगे।

 

 

 

ये हैरान करता है कि एक तरफ बड़े बड़े जनप्रतिनिधि बिना एसी के घर से अगर निकलते भी हैं तो उनकी करोडों की लग्जरी गाड़ियों में एसी लगी रहती है उन्हें आमजनमानस की तकलीफों का अंदाजा भी नही होता है

 

 

तो फिर इस जानवी कालोनी को बसाने से पहले क्या प्रशासन के नुमाइंदों ने सोचा नही की यहाँ लोग ऐसी अव्यवस्था में कैसे जीवन यापन करेंगे ।
आम आदमी इसी वजह से कल भी नोकर था और आज भी नोकर ही है सत्ता में बैठने वाले जो अपने आप को सेवक कहते हैं मजे मार रहे हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here