जिलाधिकारी ने सुनी जन शिकायते व कलेक्ट्रेट परिसर का लिया जायजा।

0
22

जिलाधिकारी ने सुनी जन शिकायते व कलेक्ट्रेट परिसर का लिया जायजा।
संवाददाता मोहित सैन मथुरा

 

 

 

 


मथुरा । जिलाधिकारी पुलकित खरे ने आज कलेक्ट्रेट स्थित कार्यालय में जन शिकायतें सुनी। कार्यालय से ही संबंधित शिकायतों को विभिन्न अधिकारियों को अग्रसारित करते हुए निस्तारण करने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी शिकायतों को गुणवत्ता एवं समयबद्धता के साथ निस्तारण कर शिकायतकर्ता को अवगत कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने जनपद वासियों को अवगत कराया है कि प्रति कार्यदिवसों पर कलेक्ट्रेट कार्यालय एवं सभी तहसीलों में प्रातः10 बजे जन सुनवाई की जाती है। आप सभी अपनी शिकायतों को संबंधित तहसील या कलेक्टेªट कार्यालय में जन सुनवाई के दौरान प्रस्तुत कर निस्तारण करवा सकते हैं।

 

 

 

जन सुनवाई के पश्चात जिलाधिकारी ने संपूर्ण कलेक्ट्रेट परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने सबसे पहले अपने कार्यालय के चारों तरफ देखा और नगर मजिस्ट्रेट को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होंने अपर जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि अपने कैम्प परिसर के आस-पास पौधा रोपण करें तथा अनुपयोगी जगह की कार्ययोजना बनाकर सुदृण एवं उपयुक्त बनायें। इसके बाद पार्किंग व्यवस्था का जायजा लिया और नगर मजिस्ट्रेट को निर्देश दिये कि सभी गाड़ियों को व्यवस्थित रूप से पार्क करवाने की व्यवस्था करें।

 

 

 

इसके बाद श्री खरे ने सिविल डिफेंस कार्यालय का निरीक्षण किया तथा कार्यालय उपस्थित पंजिका का अवलोकन किया, इसके साथ ही जनपद में लम्पी बीमारी, कोविड-19 एवं बाढ़ नियंत्रण संबंधी कन्ट्रोल रूम की जानकारी ली। कन्ट्रोल रूम में तैनात डाॅक्टर एवं कर्मचारियों से फोन आने एवं करने वाले रजिस्टरों के बारे में जानकारी ली, जिसके संबंध में उन सभी को निर्देश दिये गये कि ज्यादा से ज्यादा लोगों से संपर्क कर लम्पी बीमारी, कोविड-19 एवं बाढ़ नियंत्रण संबंधी समस्याओं का निस्तारण करायें।

 

 

 

 

इसी क्रम में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि, सीआरए, आबकारी, जिला प्रोबेशन, खनन, होम्योपैथिक एवं राजकीय कैन्टीन का निरीक्षण किया। उन्होंने नाजिर को निर्देश दिये कि वर्षा खत्म होने के बाद सभी कार्यालयों में पैन्टिंग, मरम्मत आदि का कार्य कराया जाये। कलेक्ट्रेट परिसर में जलभराव वाले स्थानों को चिन्हित करने के निर्देश दिये और कहा कि आवश्यक कार्यवाही कराना सुनिश्चित करें। निरीक्षण के बाद जिलाधिकारी ने नगर मजिस्ट्रेट एवं नाजिर को निर्देश दिये कि सभी कार्यालयों की जमीनों की जांच कर लें और पता करें कि कौन सा कार्यालय कलेक्ट्रेट की जमीन पर बना है। उन्होंने कलेक्ट्रेट परिसर में लाइट, पार्कों का सौन्द्रीयकरण, शौचालय, पेयजल आदि के संबंध में कार्ययोजना बनाकर कार्य कराने के निर्देश दिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here